पत्रकार को किसी से प्रभावित न होकर अपना कार्य करते रहना चाहिए-विंदुगद्याचार्य स्वामी देवेंद्रप्रसादाचार्य

 
-समाज में सजग प्रहरी की भूमिका निभाती है पत्रकारिताः कुलपति
-दैनिक अवध कमेंट वीक के 11वां स्थापना दिवस समारोह में अवध शिखर सम्मान से अलंकृत हुईं विभिन्न विभूतियां
 
अयोध्या। अखबार समाज का आईना होता है। समाज में क्या हो रहा है यह अखबार के जरिए पता चलता है। पत्रकार को किसी से प्रभावित न होकर अपना कार्य करते रहना चाहिए। कलम की शक्ति सर्वोपरि शक्ति है, जो समाज को स्वस्थ एवं सकारात्मक दिशा देने में सहयोगी होती है। उक्त बातें विंदुगद्याचार्य स्वामी देवेंद्रप्रसादाचार्य जी महाराज ने दैनिक अवध कमेंट वीक के 11वें स्थापना दिवस समारोह की अध्यक्षता करते हुए कही।
समारोह के मुख्य अतिथि कुलपति मनोज दीक्षित ने कहा कि पत्रकारिता ने समाज में सजग प्रहरी की भूमिका निभाई है। पत्रकारिता पर व्यवहारिक खतरे भी बढ़ते जा रहे हैं। इन सबके बाद भी पत्रकारों ने जन सरोकारों की पत्रकारिता को जीवित रखा है। कहा कि हिंदी पत्रकारिता का ही असर है कि आज देष ही नहीं दुनिया में भी हिंदी भाषा के प्रति लोगांे का नजरिया बदला है। पत्रकारिता के माध्यम से लोगों की भावाभिव्यक्ति सरलता से व्यापक क्षेत्रों तक पहुंच रही है।
संत समिति अयोध्या के अध्यक्ष महंत कन्हैयादास रामायणी ने कहा कि संतों ने जो रामराज्य की स्थापना की परिकल्पना की है उसमें पत्रकारिता की भी अहम भूमिका है। आज पत्रकारिता में खतरे बढ़ गए हैं, आतंकवादियों द्वारा पत्रकारों को मारा जाता है, लेकिन जब तक सूरज-चांद रहेगा तब तक पत्रकारिता समाज के दर्पण के रूप में विराजमान रहेगी। ज.गु.रामदिनेशाचार्य ने कहा कि पत्रकार समाज का दर्पण होता है। समाज को सकारात्मक दिषा देने में अहम भूमिका पत्रकार की होती है।
प्रेस कांउसिल आफ इंडिया के सदस्य संपादक शीतला सिंह ने कहा कि छोटे अखबारों को आज बचाए रखना किसी बड़ी चुनौती से कम नहीं है। नई नियमावली ने भी छोटे अखबारों पर संकट खड़ा कर दिया है। संसाधन के अभाव व तमाम विपरीत परिस्थतियों से निपटते हुए अखबार को जिंदा रखना दृढृढ़इच्छाशक्ति से ही संभव है। खुषी की बात यह है कि बदलते वक्त में भी हिंदी समाचार पत्रों की अहमियत कायम है।
वरिष्ठ पत्रकार इंदुभूषण पांडेय ने कहा कि आज समाचारों व अखबारों की विश्वसनीयता पर घोर संकट हेै। आज के दौर में अब छोटे अखबारों की भूमिका महत्वपूर्ण हो गई लेकिन उनके सामने पूंजी का संकट है। जबकि बाकी अखबार किसी न किसी के लिए भोपू का काम कर रहे हैं। किसी भी अखबार या पत्रकार को यह तय करना पड़ेगा कि उसको किसके लिए पत्रकारिता करनी है।
भाजपा के महानगर अध्यक्ष कमलेष श्रीवास्तव ने कहा कि कभी मिषन रही पत्रकारिता का आज व्यवसायीकरण हो गया है। पत्रकारिता ने सदैव समाज की समस्याओं, जरूरतों को ध्यान में रखा है। प्रेसक्लब अयोध्या के अध्यक्ष महेंद्र त्रिपाठी ने कहा कि बिना सरकारी सुविधा के अनवरत दैनिक अखबार का संचालन करना सराहनीय कार्य है।
कार्यक्रम में कुलपति आचार्य मनोज दीक्षित, अखिल भारतीय क्षत्रिय कल्याण परिषद के जिलाध्यक्ष राजेश सिंह, देवा इंटर कालेज के प्रबंधक सहदेव उपाध्याय, सवेरा परिवार के संस्थापक आचार्य शिवेंद्र, समाजसेविका डाॅ.रानी अवस्थी, प्रधानाचार्या डाॅ.एकता त्रिपाठी, मेला प्रसारण प्रभारी दीपचंदराही, हिन्दी प्रचार प्रसार सेवा संस्थान के राष्ट्रीय महामंत्री डाॅ.सम्राट अशोक मौर्य, साकेत भूषण समाज के अध्यक्ष जितेंद्र गुप्ता, महामंत्री पार्षद नंदलाल गुप्ता, रामबाबू गुप्त बेबस, सुरेश कुमार गुप्त, बैजनाथ गुप्त, हाईकोर्ट की अधिवक्ता पल्लवी सिंह, आज का अभिमन्यु मृगेंद्र राज पांडेय, जिमनास्ट अंबुज व अंकित मिश्र को अवध शिखर सम्मान से अलंकृत किया गया।
इससे पूर्व समारोह का शुभारंभ मुख्य अतिथियों द्वारा द्वीप प्रज्वलन कर किया गया। प्रबंधक शिवकुमार मिश्र ने समारोह का संचालन करते हुए सभी के प्रति आभार ज्ञापित किया। संपादक नितिन मिश्र, प्रबंध संपादक विपिन मिश्र व ब्यूरो प्रभारी शिवपूजन मांझी ने अतिथियों का स्वागत सम्मान किया। लक्ष्मणबाल विद्यामंदिर इंटर कालेज के बच्चों द्वारा सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किया गया। कार्यक्रम में महंत बष्जमोहन दास,महंत रामभूषण दास कृपालु जी,डाॅ.वीके मिश्र, डाॅ.राजदत्त पांडेय, डाॅ.शक्ति पांडेय, डाॅ.राजेश पांडेय, प्रसिद्ध सूफी गजल गायक रोहित हितेश्वर, पत्रकार शोभा गुप्ता, अयोध्या शोध संस्थान के व्यवस्थापक रामतीरथ, एसएनबागी, राजीव त्रिपाठी, डाॅ.सुधीर सिंह,शक्ति जायसवाल, सूर्यकांत पांडेय, पार्षद महेंद्र शुक्ल, जिला प्रेरक संघ के जिलाध्यक्ष रामबक्ष यादव,श्रीनिवास शास्त्री सहित अन्य मौजूद रहे।