लल्लू सिंह, सांसद

सांसद लल्लू सिंह के प्रयासों की बदौलत अयोध्या की 84 कोसीय सांस्कृतिक सीमा राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित

-आध्यात्म, विकास व पयर्टन के संगम को प्रदर्शित करेगा परिक्रमा पथ
-पथ पर मौजूद रामायण में वर्णित स्थलों मे पयर्टन के विकास के साथ बढ़ेगी रोजगार की सम्भावनाएं

अयोध्या। सांसद लल्लू सिंह के लगातार

लल्लू सिंह, सांसद

प्रयासों की बदौलत अयोध्या जनपद के विकास में एक और कड़ी जुड़ गयी है। अयोध्या की सांस्कृतिक सीमा 84 कोसी परिक्रमा मार्ग राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित हो गया है। लखनऊ में आयोजित कार्यक्रम के दौरान केन्द्रीय सड़क, परिवाहन एवं राजमार्ग मंत्री नितिन गड़करी ने इसकी घोषणा की। 2015 से सांसद लल्लू सिंह इसके लिए लगातार प्रयास कर रहे थे। केन्द्रीय मंत्री नितिन गड़करी ने  21 दिसम्बर 2016 को जीआईसी के मैदान में इसको राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित करने के अनुरोध को स्वीकार किया था।
सांसद लल्लू सिंह ने कहा कि राष्ट्रीय राजमार्ग के स्वरुप में परिवर्तित होने के उपरान्त 84 कोसी परिक्रमा मार्ग आध्यात्म, विकास व पयर्टन के संगम को प्रदर्शित करेगा। रामायण में वर्णित करीब 151 तीर्थ स्थल आध्यात्म व श्रद्धा का केन्द्र है। यह परिक्रमा पथ बस्ती, अयोध्या, अम्बेडकरनगर, बाराबंकी और गोंडा से होते हुये निकलता है। इस पथ पर रामायण से जुड़े प्रतीकों में पुत्रेष्ठि यज्ञ स्थल मखौड़ा बस्ती, ऋषि श्रृंगी आश्रम, सेरवा घाट, सीताकुंड बीकापुर, आस्तिक आश्रम आस्तिकन, यमदग्नि आश्रम, गौतम ऋषि आश्रम रूदौली, मण्डप ऋषि आश्रम लखनीपुर, जम्बूदीप भौरीगंज गोंडा, संत तुलसी दास के गांव राजापुर, यमदग्नि कुंड, पराशर ऋषि आश्रम जैसे आध्यामिक केन्द्र है। राजमार्ग के विकसित होने से यह स्थल श्रद्धा के साथ साथ पयर्टन का केन्द्र भी बन जायेंगे। जो इन सभी जनपदों में विकास के साथ रोजगार सृजन की सम्भावनाओं को सम्बल प्रदान करेंगे। परिक्रमा पथ के निर्माण से आवागमन के लिए सरयू पर दरियाबाद विधानसभा क्षेत्र के मुर्तिहनघाट और शेरवाघाट गोसाईगंज पर पुलों की सुविधा भी श्रद्वालुओं और लोगों को मिलेगी। परिक्रमा पथ के बन जाने से अयोध्या पहुंचने वाले श्रद्वालु आसानी से चौरासी कोस में स्थित तीर्थो तक पहुंच सकेंगे। सांसद लल्लू सिंह ने 84 कोसी परिक्रमा पथ को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित करने पर अयोध्या की पूज्य संतो तथा कोटि कोटि रामभक्तों की तरफ से प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी व सड़क परिवाहन मंत्री नितिन गड़करी को आभार व्यक्त किया है।
वहीं 84 कोसी परिक्रमा पथ को राष्ट्रीय राजमार्ग घोषित करने प्रयास के साथ यहां आध्यामित्क स्थलों के पौराणिक महत्व को वैश्विक स्तर पर परिभाषित करने के लिए सांसद लल्लू सिंह ने दिल्ली में अयोध्या पर्व का आयोजन किया था। जिसने पूरे विश्व को रामायण के प्रतीकों की इन पौराणिक धरोहरों से साक्षात्कार कराया था। अयोध्या में रामजन्मभूमि पर भव्य मंदिर निर्माण हेतु प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के आगमन से पूर्व चौरासी कोसी परिक्रमा पथ के 151 तीर्थ स्थलों पर सांसद लल्लू सिंह के नेतृत्व में श्री अयोध्या न्यास के द्वारा अनुष्ठान प्रारम्भ कराया गया था। जो भूमि पूजन के दिन तक चला था।