प्रेम की एक मिशाल अयोध्या में , जो पूरे देश मे बनी चर्चा का विषय

रामनगरी में वैदिक मंत्रोच्चार के बीच किन्नर ने रचाई शादी

प्रतापगढ़ के रहने वाले शिव कुमार ने किन्नर अंजली से रचाई शादी

अयोध्या की ऐतिहासिक तपोस्थली नंदीग्राम भरतकुंड पर दोनों ने खाई जीवनभर साथ निभाने की कसमें

अयोध्या। प्रेम किया नही जाता, हो जाता है और यह प्रकृति का वह अनुपम उपहार है जो बंधनों से परे है l प्रेम की ऐसी ही एक मिशाल अयोध्या में

है जो पूरे देश मे चर्चा का विषय है l लोग इस प्रेम व साहस की जमकर तारीफ कर रहे हैं l

धर्मनगरी अयोध्या में एक किन्नर ने वैदिक रीति रिवाज के साथ अपने दाम्पत्य जीवन की शुरुआत की। जो लोगों में चर्चा का विषय बना हुआ है। भगवान श्रीराम ने अनुज भरत की तपोस्थली नंदीग्राम भरतकुंड पर किन्नर अंजली सिंह ने प्रतापगढ़ के रहने वाले शिव कुमार वर्मा के साथ अग्नि को साक्षी मानकर जीने मरने की कसमें खाई और दाम्पत्य जीवन मे बंध गये।

दर्जनों बरातियों ने दोनों को दाम्पत्य जीवन की शुभकामनाएं

किन्नर अंजली सिंह पुत्री स्व. अनिल सिंह व प्रतापगढ़ जनपद के रहने वाले शिव कुमार वर्मा पुत्र रामकिशोर वर्मा के बीच पहले स्व प्रेम प्रसंग चल रहा था और आखिरकार दोनों ने एक दूसरे के साथ शादी करने का फैसला किया। नंदीग्राम भरतकुंड पर वैदिक मंत्रोच्चार के बीच दोनों ने जीवनभर साथ निभाने की कसमें खाई। किन्नर अंजली व शिव कुमार की शादी में पहुंचे दर्जनों लोगों ने उन्हें आशीर्वाद दिया और सफल वैवाहिक जीवन की शुभकामनाएं दी।

प्रेम परवान चढ़ने पर दोनों ने लिया शादी करने का फैसला

दुल्हन बनी किन्नर अंजली सिंह ने बताया कि हम दोनों एक दूसरे से प्यार करते थे और एक दूसरे के बिना नहीं रह सकते इसलिये हमने शादी करने का निर्णय लिया। उन्होंने बताया कि इस शादी के लिये लड़के में परिवार वाले भी राजी थे। वहीं दूल्हा बने शिव कुमार वर्मा ने बताया कि मुझे पता था अंजली किन्नर है फिर भी मुझे वह पसंद थी। उन्होंने बताया कि एक साल ने हम दोनों साथ भी रह रहे थे, यही कारण है कि हम लोगों ने शादी करने का फैसला किया।