अयोध्या रेलवे स्टेशन पर फेज वन का कार्य होगा अक्टूबर तक पूरा : उत्तर रेलवे महाप्रबंधक ,आशुतोष गंगल

महाप्रबंधक आशुतोष गंगल ने कहा कि पर्यटन के लिहाज से अयोध्या जितना महत्वपूर्व है, उतनी से भव्यता के साथ अयोध्या रेलवे स्टेशन का विकास किया जायेगा

अयोध्या l उत्तर रेलवे के महाप्रबंधक आशुतोष गंगल शुक्रवार की सुबह विशेष ट्रेन से अयोध्या पहुंचकर पहले हनुमानगढ़ी में दर्शन-पूजन किया. इसके बाद अयोध्या, फैजाबाद रेलवे स्टेशन पहुंचकर जायजा लिया. इस दौरान महाप्रबंधक ने कहा कि फैजाबाद जंक्शन के नाम बदलने की प्रक्रिया चल रही है. उल्लेखनीय है कि राम मंदिर निर्माण के साथ-साथ अयोध्या रेलवे स्टेशन को मॉडल स्टेशन के रूप में बनाया जा रहा है. राम मंदिर मॉडल के अनुसार ही अयोध्या रेलवे स्टेशन को भव्यता दी जा रही है. राममंदिर बनने के बाद भविष्य में अयोध्या आने वाले पर्यटकों की संख्या को देखते हुये रेलवे स्टेशन का विस्तार किया जा रहा है, ताकि पर्यटकों को उचित सुविधाएं मिल सकें।

अयोध्या रेलवे स्टेशन पर हो रहे कार्य विस्तारीकरण के कार्यों का जायजा लेने अयोध्या पहुंचे उत्तर रेलवे महाप्रबंधक आशुतोष गंगल ने कहा कि पर्यटन के लिहाज से अयोध्या जितना महत्वपूर्व है, उतनी से भव्यता के साथ अयोध्या रेलवे स्टेशन का विकास किया जायेगा। उन्होंने कहा कि अयोध्या पर फेज वन का कार्य चल रहा है, जो अक्टूबर तक पूरा कर लिया जायेगा। इसके साथ ही साथ फेज टू के कार्य के बाबत रेलवे बोर्ड को प्रस्ताव भेजा जायेगा, जिसके बाद उस पर काम शुरू हो सकेगा। इससे पूर्व उत्तर रेलवे महाप्रबंधक आशुतोष गंगल ने सबसे पहले हनुमानगढ़ी में जाकर बजरंगबली दर्शन-पूजन कर आशीर्वाद किया, जिसके वह सीधे अयोध्या व फैज़ाबाद स्टेशन पहुंचे, जहां उन्होंने विस्तारीकरण के बारे में विस्तृत जानकारी ली। उन्होंने कहा राममंदिर बनने के साथ ही स्टेशन के विस्तारीकरण को लेकर जमीन की जरूरत पड़ेगी और इसके लिये प्रदेश सरकार ने अपनी सहमति जताई है। वहीं दूसरी ओर जौनपुर से बाराबंकी के बीच होने वाले दोहरीकरण के बाबत उन्होंने कहा कि दोहरीकरण का कार्य चल रहा है, आने वाले 2023 तक दोहरीकरण व विद्युतीकरण का कार्य पूरा कर लिया जायेगा। फैज़ाबाद रेलवे स्टेशन पर लगी स्वचालित सीढ़ी के आये दिन बंद होने की शिकायतों के बाद अब उसका स्थाई निदान ढूंढ लिया गया है। इस बारे उत्तर रेलवे महाप्रबंधक आशुतोष गंगल ने बताया कि फैज़ाबाद रेलवे स्टेशन पर जो लगी स्वचालित सीढ़ी अब बंद नही होगी क्योंकि उसे अब जीपीएस सिस्टम से जोड़ दिया गया है। यदि भविष्य में किसी कारणवश वह बंद होती है तो उसका एक मैसेज व उसका कारण सीधे स्टेशन अधीक्षक के मोबाइल पर आ जायेगा, जिसके बाद उसे तुरंत सुधार लिया जायेगा।रेल कर्मचारियों के लिये बने मकानों की जर्जर हालात के बारे में पूछे गए एक सवाल के जवाब में जीएम उत्तर रेलवे ने कहा कि इस मामले पर हम कर्मचारी संगठनों से बात करेंगे और उनकी जो भी समस्याएं होंगी, उन पर गंभीरता से विचार कर निस्तारण करायी जाएंगी। वहीं दूसरी ओर अवैध वेंडर को लेकर एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि रेलवे बोर्ड इस पर अंकुश लगाने के लिये कटिबद्ध है। उन्होंने कहा कि अवैध वेंडिंग को रोकने लिये बीच-बीच अभियान भी चलाया जाता है। उन्होंने कहा इस मामले में जो भी शिकायतें आएंगी, उनकी गोपनीयता रखते हुये उचित कार्रवाई की जायेगी।