अवधी लोकगीत की प्रस्तुति ने दर्शकों की खूब तालियां बटोरी

अयोध्या। अयोध्या महोत्सव मे आयोजित फोक अवार्ड शो में कलाकारों ने अपनी भाव भंगिमा से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया। करन सांवरिया झांकी ग्रुप के द्वारा रामदरबार की प्रस्तुति, श्रवण सुल्तानपुरी के द्वारा मुझे मिले जनम जब मिले भजन की, चिंटू सागर के द्वारा आज मिथिला नगरिया निहाल सखियां व सेनदत्त सिंह शान के द्वारा घूंघट तरे दाबै गोरी गोलगप्पा अवधी लोकगीत की प्रस्तुति ने दर्शकों की खूब तालियां बटोरी। कार्यक्रम का उद्घाटन कार्यक्रम के मुख्य अतिथि टीम फिल्म के निदेशक राघवेन्द्र सिंह ने मां सरस्वती की प्रतिमा पर दीप प्रज्जवलन के माध्यम से किया।

                भारतीय नाट्यम शास्त्रीय नृत्य की प्रख्यात कलाकर उन्नति श्री ने गणेश वंदना की तथा लोकगायिका वंदना वर्मा ने सरस्वती वंदना की प्रस्तुति करके लोगो को भावविभोर कर दिया। शास्त्रीय गायन के आचार्य पंडित सत्यप्रकाश ने कहा कि हमें लोककलाओं को संरक्षित रखने के संकल्पों के साथ आगे बढ़ना होगा। अवध में लोक कलाओं के प्रचार प्रसार के साथ हमारी संस्कृति की महानता से पूरे देश को अवगत कराने के लिए आगे आना होगा। इसमें अयोध्या महोत्सव एक बड़ी भूमिका निभा रहा है। महोत्सव न्यास के अध्यक्ष हरीश श्रीवास्तव ने कहा कि अयोध्या व उससे सटे जनपदों की जनता द्वारा मिले उत्साहवर्धन का परिणाम है कि अयोध्या महोत्सव ने आज उस वृक्ष का रुप ले लिया है जिसकी जड़े काफी गहरी है। हमारी लोकसंस्कृति व कला की चर्चाएं आज हर ओर हो रही है। स्थानीय से लेकर प्रदेश स्तर तक कलाकार अयोध्या महोत्सव के मंच को साझा कर रहे है। इस दौरान गजल गायन के क्षेत्र में पंडित देव प्रसाद पाण्डेय, अवधी गायन में चिंटू सागर, गगनदीप सिंह, सेनदत्त सिंह शाक, राजेश यादव, श्रवनपाल, कर्मचन्द्र देहाती को सम्मानित किया गया। कार्यक्रम का संचालन कल्पना वर्मा व श्रवण पाल ने संयुक्त रुप से किया। इस अवसर पर उपाध्यक्ष कृष्ण कुमार पाण्डेय खुन्नू, अरुण द्विवेदी, महेश ओझा, प्रबन्धक रवि तिवारी, सचिव नाहिद कैफ, कार्यक्रम प्रभारी अनुजेन्द्र तिवारी, रेणुका श्रीवास्तव, चन्द्रशेखर तिवारी, विवेक पाण्डेय, विजय यादव, श्रुति श्रीवास्तव, राघवेन्द्र श्रीवास्तव, राजेश यादव, ओमेश अग्रवाल मौजूद रहे।