विरार अस्पताल अग्नितांडव में 13 मरीजों की मौत , 6 घायल

मुंबई से सटे उपनगर विरार के अस्पताल में अग्नितांडव में 13 मरीजों की मौत हो गई है, जबकि 6 घायल

हो गए हैं। घायलों को दूसरे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। इनमें से कुछ की हालत गंभीर बताई जा रही है।
विरार के चार मंजिला वल्लभ अस्पतल के दूसरे माले पर 23 अप्रैल की सुबह लगभग 5.20 बजे यह आग लगी। इस आग में 13 मरीजों की मौत हो गई, जबकि 6 मरीज घायल हो गए हैं। उन्हें दूसरे अस्पताल में भर्ती कराया गया है। वहां उनका उपचार किया जा रहा है।

आईसीयू में लगी आग
यह आग अस्पताल के आईसीयू में लगी। दमकल विभाग के कर्मचारियों ने पानी के कई टैंकरों की मदद से आग पर नियंत्रण पाया। घटनास्थल पर पुलिस के साथ ही फायर विभाग के अधिकारी भी मौजीद थे। आग बुझाने में स्थानीय लोगों ने भी मदद की।
एसी में शॉर्ट सर्किट के कारण आग लगी
यह कोविड अस्पताल था और यहां कोरोना मरीजों को भर्ती कराया गया था। अस्पताल में आग लगने के समय 15 मरीज आईसीयू में भर्ती थे। माना जा रहा है कि एसी में शॉर्ट सर्किट के कारण यह आग लगी। अस्पताल का आईसीयू दूसरे माले पर था।
अस्पताल के सीईओ ने दी जानकारी
अस्पताल के सीईओ दिलीप शाह ने बताया कि इस घटना में 13 लोगों की मौत हुई है। उन्होंने कहा कि अस्पातल में लगभग 90 मरीज भर्ती थे। उन्हें दूसरे अस्पताल में शिफ्ट किया गया है। शाह ने बताया कि आईसीयू से कुछ आग जैसा गिरा और चंद मिनटों में ही आग ने गंभीर रुप धारण कर लिया। उन्होंने दावा किया कि अस्पताल में फायर सेफ्टी है। सीईओ ने दावा किया कि रात में अस्पताल में डॉक्टर मौजूद थे। हालांकि आग लगने के समय अस्पताल में मौजूद स्टाफ के बारे में वे नहीं बता सके।

आग पर नियंत्रण
अस्पताल में लगी आग पर नियंत्रण पाने की लिए वसई विरार महानगर पालिका के दमकल विभाग की कई गाड़ियों का इस्तेमाल किया गया। एक मरीज के परिजन ने दावा किया कि एसी में शॉर्ट सर्किट के कारण आग लगी। इस अग्नितांडव में मृतकों की संख्या बढ़ने की आशंका जताई जा रही है।