भूमि खरीद में किसी प्रकार की अनियमितता नहीं: गोविन्ददेव गिरी

ट्रस्ट कोषाध्यक्ष ने कहा कीअगर हमारी न्यास मंडली कहेगी तो हम इन पर केस करेंगे

अयोध्या।श्री राम जन्म भूमि ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष गोविंद देव गिरी ने पत्रकार वार्ता में कहा कि भगवान श्री राम की असीम कृपा से अयोध्या में भगवान श्री राम के मंदिर का काम तेजी से बढ़ रहा है।नियत काल में मंदिर का कार्य पूर्ण होगा। निर्माण कार्य की गति में अवरोध उत्पन्न करने की घटना 15-20 दिनों में घटी। इसमें कुछ राजनीतिक और कुछ कथाकथि धर्माचार्य भी हैं जिन्होंने आरोप लगाया कि भगवान श्री राम की मंदिर के निर्माण में कुछ कानूनी अनियमितताएं है।जिसे आप लोग घोटाला कहते हैं। पिछले 3 दिनों से आकर लगातार अब तक इसी बात की खोजबीन करता रहा।अपने साथ वकीलों को लेकर आया और सारे न्यासी बंधु भी आए।भूमि संपादन का कार्य किया किया गया उसमें किसी प्रकार की अनियमितता नहीं बरती गई है।

 

उन्होंने कहा कि हम जो मंदिर दुनिया के सामने खड़ा करना चाहते हैं वह निश्चित रूप से दुनिया में सबसे बड़ा स्थान होगा। मंदिर के आसपास परकोटे के निर्माण के लिए हमारे पास भूमि नही थी। भूमि संपादन के कार्य में भ्रष्टाचार और घोटाले जैसे शब्दों का प्रयोग किया गया।आरोप लगाया गया लिहाजा इस पर प्रकाश डालना अनिवार्य था।जो भी भूमि खरीद की गई पूरे विधि-विधान और और कानून के अनुसार किया गया है।जो कुछ भी भूमि ग्रहण किया गया है वह सब आज के अयोध्या जी के बाजार भाव से इतने में अथवा उससे कम में ही लिया गया है।इसलिए यह जो लोगों को भ्रमित करने का प्रयास किया गया उसमें एक ही दिखता है यह लोगों की मंशा भगवान राम के मंदिर निर्माण के कार्य में बाधा डालने की है।इसलिए ध्यान रखिएगा कि यह सारा कार्य वैधानिक रूप से किया गया है।इसमें किसी प्रकार का किसी से भी व्यवहार नहीं किया गया है कहीं पर भी कानून की मर्यादा को धूमिल नहीं किया गया है।

श्रीगिरी ने कहा कि जिन लोगों ने ऐसा आरोप लगाया है तूल देकर के पूरे देश में एक भ्रम निर्माण करने का प्रयास किया है। मैं अपनी ओर से आग्रह और अनुरोध करता हूं राम भक्तों की वाणी से बोलना है तो वह विरोधी भी है। रामकोट के भीतर इस से कम में कहीं पर भी कोई जमीन नहीं मिल सकती। मैं सारे राम भक्तों को आश्वस्त करना चाहता हूं कि जिस विश्वास से यह कार्य हम लोगों को सौंपा गया है उस विश्वास को हम सार्थक करके रहेंगे। आगे भी हम इससे सतर्क रहेंगे क्योंकि सावधानी में शिथिलता हम लोगों को भी नहीं करनी है। लोगों को भी गर्व होगा कि मंदिर का निर्माण कैसे किया गया। उनकी मानसिकता भ्रामक प्रचार करने की है।इन लोगों के मन में राजनैतिक भावनाएं हैं ।हम इस प्रकार की बातों को सफल नहीं होने देंगे। मंदिर निर्माण करना है जो अपार गति से चलता रहेगा।
उन्होंने कहा कि वे इस मामले का मीडिया ट्रायल नहीं करना चाहते है।जब कोई व्यक्ति हमसे इसके बारे में पूछेगा तो हम पूरे प्रमाण के साथ उसको बताएंगे। जिन लोगों के मन में राजनीतिक उद्देश्य है उन लोगों का विश्वास आप लोग मत कीजिएगा।हम पर विश्वास कीजिएगा हम समय से भगवान राम के मंदिर का निर्माम करेंगे। ट्रस्ट कोषाध्यक्ष ने कहा कीअगर हमारी न्यास मंडली कहेगी तो हम इन पर केस करेंगे ।

 

* अयोध्या राम मंदिर ट्रस्ट पर भूमि खरीद घोटाला पर राम जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट ने महामंत्री चम्पत राय , ट्रस्टी डॉ अनिल मिश्र , महापौर ऋषिकेश उपाध्याय को दिया क्लीन चिट , ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष स्वामी गोविन्ददेव गिरी जी महाराज ने मणिराम दास छावनी में प्रेस कर दिया क्लीनचिट , प्रेस को प्रेसविज्ञप्ति भी की प्रसारित

* मंदिर निर्माण में परकोटा एवं रिटेनिंग वाल के लिए भूमि संपादन आवश्यक

* न्यास द्वारा उपसमिति बनाई गई समिति में ।
ट्रस्ट अध्यक्ष महंत नृत्यगोपाल दास
ट्रस्टी , महंत दिनेन्द्र दास
ट्रस्टी , विमलेंद्र मोहन प्रताप मिश्र
ट्रस्टी , डॉ अनिल मिश्र
महामंत्री , चंपत राय

* भूमि विवाद पर ट्रस्ट ने किया जांच
ट्रस्टी विश्वप्रसन्नतीर्थ
ट्रस्टी कामेश्वर चौपाल
कोषाध्यक्ष स्वामी गोविन्ददेव गिरी ने की जांच

* किसी भी प्रकार की नही हुई अनियमितता
सभी नियमो का किया गया पालन
बैंक के माध्यम से हुआ लेनदेन
बाजार दाम से कम में खरीदी गई जमीन

*आरोप लगाने वाले लोग राम भक्तो को भ्रमित कर निर्माण कार्य मे करना चाहते बाधा

*आरोप लगाने वालों को ट्रस्ट से वास्तविकता जाननी चाहिए थी

*आरोप लगाने वालों को सामान्य शिष्टाचार का पालन करना चाहिए था ।