हनुमंतलला का दर्शन करने के लिए कई सारे नियमों का पालन भक्तों को करना पड़ेगा,   8 जून से भक्त कर सकेंगे दर्शन 

हनुमानगढ़ी परिसर की साफ-सफाई तेज  हो गई है,  परिसर को सैनिटाइज किया जा रहा,  सीढ़ियों पर गोला बनाकर सोशल डिस्टेंस का पालन हो सके इसकी भी व्यवस्था 

-हनुमानगढ़ी के पुजारी राजू दास का कहना है कि अब 8 जून से भक्तों के लिए हनुमान जी का दरबार खुल जाएगा तो गर्भगृह में मात्र 5 लोग ही एक साथ सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए दर्शन कर सकेंगे

-रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सतेंद्र दास का कहना है कि मंदिर खुल रहे है ऐसे में सभी लोगो को सुरक्षित रहने के लिये सरकार के निर्देशों का पालन करना होगा

राजू दास

अयोध्या l प्रसिद्ध हनुमानगढ़ी में अब 8 जून से भक्त हनुमान जी का दर्शन कर सकेंगे, लेकिन हनुमंतलला का दर्शन करने के लिए कई सारे नियमों का पालन भी भक्तों को करना पड़ेगा। हनुमानगढ़ी परिसर की साफ-सफाई  हो गई है l बाकायदा पूरे परिसर को सैनिटाइज किया जा रहा है। हनुमानगढ़ी की सीढ़ियों पर गोला बनाकर सोशल डिस्टेंस का पालन हो सके हनुमानगढ़ी प्रशासन इसकी व्यवस्था कर रहा है। लेकिन हनुमानगढ़ी में दर्शन से पूर्व क्या नियम बनाए गए हैं इसको जान लेना आवश्यक है। हनुमानगढ़ी के पुजारी राजू दास का कहना है कि अब 8 जून से भक्तों के लिए हनुमान जी का दरबार खुल जाएगा तो गर्भ गृह में मात्र 5 लोग ही एक साथ सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए दर्शन कर सकेंगे। उनमें से तीन लोग पहले प्रसाद चढ़ा पाएंगे जब वह गर्भ गृह से बाहर निकल जाएंगे तो पीछे खड़े दो लोग की बारी हनुमान जी सरकार को प्रसाद चढ़ाने की आएगी। पुजारी राजू दास का कहना है जरूरी नहीं है आप प्रसाद और टीके के चक्कर मे पड़े । हनुमान गढ़ी में भगवान हनुमान जी के दर्शन के लिए मुह में मास्क लगाना आवश्यक होगा । यदि कोई बिना मास्क के हनुमानगढ़ी में पहुचेगा उसको अंदर प्रवेश नही मिलेगा । हालांकि ऐसी परिस्थिति में मंदिर प्रशासन भक्तों को मास्क उपलब्ध कराएगा । पुजारी राजूदास का कहना है कि अभी बाहर से भक्त अयोध्या नही आये । लोकल अयोध्या के ही लोग हनुमानगढ़ी पहुच कर हनुमान जी का दर्शन करे । सरकार ने जो भी निर्देश दिए है उसका सभी भक्तो का पालन करना चाहिए । मंदिर परिसर में सेनेटाइजर की व्ययवस्था की गई है । हाथों को बिना सेनेटाइज किये चौखट को छूना मना है । सबसे जरूरी अपनी सुरक्षा है । इसके लिए सभी भक्तो को जागरूक होना होगा । मंदिर परिसर में बने गोले में रहकर ही दर्शन के लिए इंतजार करना होगा । पुजारी राजूदास ने सभी भक्तो से सहयोग की अपील किया है । वहीं रामजन्मभूमि रामलला के मुख्य पुजारी आचार्य सतेंद्र दास का कहना है कि मंदिर खुल रहे है ऐसे में सभी लोगो को सुरक्षित रहने के लिये सरकार के निर्देशों का पालन करना होगा । कोरोना संक्रमण से बचने के लिए अपने लोगो को व्ययवस्था करना होगा । 10 वर्ष तक के बच्चे , गर्भवती महिलाएं व बुजुर्गों को अभी धार्मिक स्थलों पर नही जाना चाहिए ।  सरकार को धन्यवाद है कि देव स्थान को खोला जा रहा है । आपको बताते चले दो माह के करीब हो रहा है कि सभी धार्मिक स्थल पूजा पाठ के लिए भक्तो के लिए बंद चल रहे थे । लेकिन अब 8 जून से सभी धार्मिक स्थल कुछ निर्देशो के साथ खुल रहे है ।

 

वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख अयोध्या बोलती है़ के लेखकों के द्वारा लिखे गए है जिनका सर्वाधिकार वेबसाइट की प्रबंध समिति के पास सुरक्षित है बिना लिखित अनुमति के वेबसाइट पर मौजूद लेख, फोटो या अन्य सामग्रियों को किसी भी स्वरुप में (प्रिंटिंग या सोशल मीडिया )प्रकाशित , प्रसारित या वितरित करना गैर कानूनी है , प्रतिलिप्यधिकार अधिनियम 1957 तहत ऐसा करना दंडनीय है !




error: Content is protected !!