प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने श्रीरामजन्मभूमि मंदिर के मॉडल पर जारी किया डाक टिकट

अयोध्या lश्रीरामजन्मभूमि मंदिर के भूमि पूजन कार्यक्रम को अविस्मरणीय बनाने के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी द्वारा 5 अगस्त को ‘श्री राम जन्मभूमि मंदिर के प्रतिरूप’ (Model of Shri Ram Janmabhoomi Temple, Ayodhya) पर आधारित डाक टिकट जारी किया गया। प्रधानमंत्री ने इसके साथ ही ‘रामायण विश्व महाकोश’ (Global Encyclopaedia of the Ramayana) पर एक विशेष डाक आवरण व विरूपण भी जारी किया। उत्तर प्रदेश के चीफ पोस्टमास्टर जनरल कौशलेन्द्र कुमार सिन्हा ने प्रधानमंत्री को डाक टिकटों का प्रथम सेट भेंट किया।
पोस्टमास्टर जनरल विनोद कुमार वर्मा, निदेशक डाक सेवाएँ लखनऊ परिक्षेत्र कृष्ण कुमार यादव, प्रवर अधीक्षक डाकघर ज्ञान प्रकाश, सत्येन्द्र प्रताप सिंह भी मौजूद रहे।

इस डाक टिकट एवं विशेष आवरण का विमोचन भूमि पूजन कार्यक्रम के पश्चात प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा उत्तर प्रदेश की राज्यपाल आनंदी बेन पटेल, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत एवं श्री जन्मभूमि तीर्थ क्षेत्र न्यास के अध्यक्ष महंत श्री नृत्यगोपाल दास की गरिमामयी उपस्थिति में किया गया। यह कस्टमाइजड डाक टिकट और विशेष आवरण भारतीय डाक विभाग और उत्तर प्रदेश शासन के संस्कृति विभाग के अधीन अयोध्या शोध संस्थान के संयुक्त तत्वाधान में जारी किया गया।

उत्तर प्रदेश डाक परिमण्डल के चीफ पोस्टमास्टर जनरल श्री कौशलेन्द्र कुमार सिन्हा ने बताया कि इस कस्टमाइजड डाक टिकट की 5 हजार शीट्स मुद्रित की गयीं हैं जिनमें 60 हजार डाक टिकट उपलब्ध हैं। पोस्टमास्टर जनरल विनोद वर्मा ने बताया कि यह डाक टिकट फैज़ाबाद प्रधान डाकघर में बिक्री के लिये उपलब्ध होंगे।

निदेशक डाक सेवाएं, लखनऊ मुख्यालय परिक्षेत्र कृष्ण कुमार यादव ने बताया कि ‘ग्लोबल एनसाइक्लोपीडिया ऑफ़ द रामायण’ पर जारी किए गए विशेष आवरण में विभिन्न काल खंडों एवं विभिन्न देशों में मिलने वाले रामायण संस्कृति के प्रमाणिक साक्ष्यों की जानकारी दी गयी है। इस विशेष आवरण का मूल्य रु. 25/- रखा गया है तथा ये फिलेटलिक ब्यूरो के माध्यम से बिक्री किये जायेंगे।

वेबसाइट पर प्रकाशित सभी लेख अयोध्या बोलती है़ के लेखकों के द्वारा लिखे गए है जिनका सर्वाधिकार वेबसाइट की प्रबंध समिति के पास सुरक्षित है बिना लिखित अनुमति के वेबसाइट पर मौजूद लेख, फोटो या अन्य सामग्रियों को किसी भी स्वरुप में (प्रिंटिंग या सोशल मीडिया )प्रकाशित , प्रसारित या वितरित करना गैर कानूनी है , प्रतिलिप्यधिकार अधिनियम 1957 तहत ऐसा करना दंडनीय है !




error: Content is protected !!